Author Topic: मुस्लिम भाई ने किया हिंदू बहन का अंतिम संस्कार  (Read 465 times)

chhaterdhari

  • Administrator
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1853
  • Karma: +0/-0

अनूठे सांप्रदायिक सद्भाव का परिचय देते हुए रामपुर के पास के एक गांव में एक मुस्लिम व्यक्ति ने अपनी एक मुंहबोली हिंदू विधवा बहन के अंतिम संस्कार का इंतजाम किया।

यह अनोखी और दिल को छू लेने वाली घटना रामपुर से करीब दस किलोमीटर दूर मूंंधा पांडे गांव के मौलागढ़ मोहल्ले की है।

कहानी कुछ ऐसी है कि अपने पति की मौत के बाद यशोदा देवी अपनी मां के साथ बेहद गरीबी की हालत में एक झोपड़ी में रह रही थी। गांव से मिली खबरों के अनुसार, उसकी हालत देखकर उसी गांव के असलम बेग ने यशोदा को अपनी राखी बहन बना लिया और उससे कहा कि वह उन्हें अपने बडे़ भाई जैसा समझे।

इसके बाद, असलम ने यशोदा के परिवार के लिए घर का इंतजाम किया और यहां तक कि उसकी पैसे से भी मदद की। 15 साल तक दोनों के बीच यह रिश्ता बना रहा और दोनों एक दूसरे के यहां तीज त्योहार में बखूबी शामिल होते रहे।

लेकिन शनिवार को जब असलम भाई दूज के लिए यशोदा के घर जा ही रहे थे तो पता चला कि बीमारी के कारण उनकी बहन का देहांत हो गया।

यशोदा के रिश्तेदारों ने मौलागढ़ में ही उसका अंतिम संस्कार करने की सोची लेकिन असमल ने पार्थिव शरीर को गढ़मुक्तेश्वर ले जाने पर जोर दिया।

असलम यशोदा के पार्थिव शरीर और उसके रिश्तेदारों को अपने खर्च पर गढ़मुक्तेश्वर में गंगा नदी के तट पर ले गए और वहां उसका अंतिम संस्कार किया।
Source-navbharat times